मेरे दिल में...

FILE

प्रेमसुख (अपनी पत्नी चमेली से) - जब से तुमने मेरे दिल में अपना घर बना लिया है, तब से मैं किसी काम का ही नहीं रहा।


चमेली ने अपनी किस्मत पर रोते हुए कहा - तो क्या हुआ, अच्छा ही है...! वैसे भी तुम पहले भी किसी काम के नहीं थे और आज भी नहीं हो।




और भी पढ़ें :