चाय नहीं... हर्बल चाय लीजिए ......

- कभी भी एल्यूमीनियम के बर्तन में न बनाएं। चाय का स्वाद प्रभावित हो सकता है।

- हर्बल टी पैकेज पर लिखे निर्देशों का अवश्य पालन करें।
- जहां तक संभव हो टी बैग्स की जगह खुली हर्बल चाय खरीदें।
- एक बार चाय बनाने के बाद आप दोबारा भी इसका इस्तेमाल कर
सकते हैं।

- फ्लेवर और चिकित्सकीय लाभ के लिए हर्बल टी को एक से दो मिनट ढक कर रखें और फिर छान कर पिएं। - हर्बल पत्तियों को पानी में अधिक देर तक नहीं उबालना चाहिए, इससे वे ऑक्सीडाइज्ड हो जाती हैं।

- एक बार चाय की पत्तियों का इस्तेमाल करने के बाद दोबारा भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

सावधानियां...
यूं तो आम चाय के मुकाबले हर्बल चाय बहुत ही कम नुकसानदेह है। लेकिन कई बार ऐसा होता कि कुछ चीजें कई लोगों को सूट नहीं करती है या कई वजहों से उनकी शारिरिक जरूरतें अलग होती हैं। उदाहरण के लिए गर्भवती महिलाएं, दिल के मरीज, चीनी के मरीज आदि। ऐसे में उन लोगों के लिए सलाह है कि हर्बल चाय का इस्तेमाल करने से पहले किसी विशेषज्ञ या अपने डाक्टर से इस बारे में सलाह जरूर ले लें।






और भी पढ़ें :