बदलती कहावत...

WD

'नेकी कर दरिया में डाल' कहावत को

अब बदलकर 'नेकी कर कचरे में डाल' कर देना चाहिए।

आदमी के पास पीने को पानी नहीं है,

दरिया कहाँ से आएगा।
WD|
- राजेंद्र शर्मा



और भी पढ़ें :