फिर रहा ऑस्ट्रेलिया का बोलबाला

WD|
लेकिन वूल्मर मधुमेह और हाई ब्लडप्रेशर समेत कई बीमारियों के मरीज भी थे। पिछले माह कोरोनर की छानबीन में भी यह तय नहीं हो सका कि उनकी मौत प्राकृतिक थी या फिर हत्या।


पाकिस्तान और भारत का पहले दौर से ही बाहर हो जाना टूर्नामेंट के लिए बड़ा सदमा रहा। टिकटों की ऊँची कीमत और गाजे बाजे स्टेडियम में ले जाने पर रोक ने रही सही कसर पूरी कर दी और स्थानीय दर्शकों ने विश्व कप से मुँह फेर लिया।

दक्षिण अफ्रीका के हर्शल गिब्स ने हॉलैंड के खिलाफ एक ओवर में छह छक्के उड़ाए। श्रीलंका के तेज गेंदबाज लसित मलिंगा ने लगातार गेंदों पर चार विकेट लेकर तहलका मचा दिया। लेकिन नौ देशों में एक साथ हुआ विश्व कप काफी लंबा था और इसके कई मैच बेहद बोझिल रहे।

इसके विपरीत दक्षिण अफ्रीका में हुआ पहला ट्वेंटी-20 विश्व कप रोमांचक रहा और भारत ने अपने पड़ोसी पाकिस्तान को हरा कर इसका खिताब जीता। भारत के युवराजसिंह ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में छह छक्के जमा दिए।


वॉर्न, मैग्राथ और मुरलीधरन की उपलब्धियों के बावजूद 2007 में बल्लेबाजों का ही बोलबाला रहा। जैक्स कैलिस ने सात पारियों में पाँच शतक जमाए और दक्षिण अफ्रीका ने पाकिस्तान, न्यूजीलैंड और भारत के खिलाफ श्रृंखलाएँ फतह की।
श्रीलंका के कुमार संगकारा ने बांग्लादेश की कमजोर गेंदबाजी का भरपूर फायदा उठाते हुए दो दोहरे शतक लगाए। वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 192 और इंग्लैंड के विरुद्ध 152 रन बनाने के साथ ही लगातार चार टेस्टों में 150 रन से ज्यादा की पारियों खेलने वाले पहले खिलाड़ी बन गए।

ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट टेस्ट मैचों में 100 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए। भारत के सचिन तेंडुलकर ऑस्ट्रेलिया के एलन बार्डर को पीछे छोड़ वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा के बाद दूसरे सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गए।
साथी खिलाड़ियों और अधिकारियों से खटपट के बीच लारा ने विश्व कप के बाद रिटायर होने की घोषणा कर दी। लारा की कई बार सामने आई अनुशासनहीनता को छोड़ दिया जाए तो वह अपने गौरव को पीछे छोड़ चुके वेस्टइंडीज के मैच जिताऊ खिलाड़ी थे।



और भी पढ़ें :