अकबर-बीरबल के रोचक और मजेदार किस्से : बादशाह की पहेली

Akbar and Birbal Story
FILE
Akbar and Birbal Story


बादशाह अकबर को पहेली सुनाने और सुनने का काफी शौक था। कहने का मतलब यह कि पक्के पहेलीबाज थे।

वे दूसरों से पहेली सुनते और समय-समय पर अपनी पहेली भी लोगों को सुनाया करते थे। एक दिन बादशाह अकबर ने बीरबल को एक नई पहेली सुनाई, 'ऊपर ढक्कन नीचे ढक्कन, मध्य-मध्य खरबूजा। मौं छुरी से काटे आपहिं, अर्थ तासु नाहिं दूजा।'

पहेली सुनकर बीरबल ने क्या महसूस किया...




और भी पढ़ें :