ऐसा पहली बार हुआ है...

नई दिल्ली (भाषा)| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 31 दिसंबर 2008 (16:36 IST)
केवल दो दिन से भी कम समय में इतिहास बनने जा रहे वर्ष 2008 में देश-विदेश में बहुत-सी घटनाएँ पहली बार हुईं। इन घटनाओं में कुछ तो एकदम अप्रत्याशित थीं और भविष्य में उनके दोहराव की उम्मीद कम है, लेकिन कुछ घटनाओं को बार-बार होते रहने से रोका नहीं जा सकता। पेश है इनका संक्षिप्त ब्योरा-

26 जनवरी को राजपथ पर पहली बार एक महिला ने भारत के राष्ट्रपति के रूप में परेड की सलामी लेकर नया इतिहास रच दिया।

अमेरिका के मैनहट्टन में महात्मा गाँधी के अहिंसा, शांति और भाईचारे के पैगाम को दोहराते हुए सात अप्रैल को पहली बार गाँधी विरासत माह की शुरुआत हुई।

10 अप्रैल को भारतीय नौसेना के 10 सदस्यीय दल ने एक कीर्तिमान बनाते हुए उत्तरी ध्रुव पर पहुँचकर वहाँ तिरंगा फहरा दिया। इस साल मई में दक्षिण भारत में पहली बार विजय पताका लहराते हुए भाजपा ने कर्नाटक विधानसभा में जीत दर्ज की और दक्षिण के किसी राज्य में पहली सरकार बनाने का उसका सपना साकार हो गया।
29 मई 2008 नेपाल के इतिहास की वह अमर तारीख है, जिसे नेपाल ने गणराज्य के तौर पर पहली बार मनाया। पूर्व माओवादी छापामारों के नेतृत्व वाली संसद ने 240 साल पुरानी राजशाही समाप्त कर दी। नरेश ज्ञानेंद्र ने सिंहासन त्याग दिया और हजारों लोगों ने सड़कों पर अपनी खुशी का इजहार किया। अगले ही दिन प्रमुख राजमहल से शाही ध्वज उतार दिया गया।

भारत में इस साल की शुरुआत में सीमा सुरक्षा बल (एसएसबी) ने पहली बार महिला कांस्टेबलों की भर्ती शुरू की। जून माह तक एसएसबी पहली महिला बटालियन के गठन के लिए तैयार हो गई।
अमेरिका में जुलाई में एक पुरुष ने बच्ची को जन्म देकर मानव इतिहास की सबसे विरली घटना को अंजाम दिया। थामस बिटी लिंग परिवर्तन के बाद पुरुष बन गया था, लेकिन उसने अपने स्त्रियोचित अंगों को भी बरकरार रखा, जिनकी मदद से वह बच्ची की माँ बन सका।

18 अगस्त को माओवादी प्रमुख प्रचंड ने दुनिया के सबसे नए गणतांत्रिक देश नेपाल के पहले प्रधानमंत्री के रूप में पद की शपथ ली। वे राजशाही से लड़ने वाले एक छापामार से देश के पहले तथा सबसे अधिक प्रभावशाली नेता बन गए।
ब्रह्मांड की उत्पत्ति का रहस्य जानने के लिए वैज्ञानिकों ने स्विट्जरलैंड और फ्रांस की सीमा पर 27 किमी लंबी भूमिगत सुरंग में प्रोटान की बीम दागकर 10 सितंबर को पहला महाप्रयोग किया। इसे बिगबैंग नाम दिया गया।

चीन के किसी अंतरिक्ष यात्री ने पहली बार अंतरिक्ष में चहलकदमी कर इस कम्युनिस्ट देश को अंतरिक्ष विज्ञान में बड़ी उपलब्धि दिलाई। अभियान के प्रमुख झाई झिगांग 27 सितंबर को यान शेनझोऊ सात की कक्षा से बाहर निकले और अंतरिक्ष में करीब 13 मिनट तक चहलकदमी की।
पोप बेनेडिक्ट सोलहवें ने वेटिकन सिटी में 12 अक्टूबर को भारत की कैथोलिक नन सिस्टर अल्फोंजा को संत के दर्जे से नवाजा। इसके साथ ही केरल के एक सुदूर गाँव की सिस्टर अल्फोंजा यह दर्जा पाने वाली भारत की पहली महिला बन गईं।

भारत ने इसी साल 22 अक्टूबर को अपना पहला मानवरहित चंद्रयान एक स्वदेश निर्मित रॉकेट पीएसएलवी सी-11 से प्रक्षेपित किया और रॉकेट ने यान को पृथ्वी की ट्रांसफर कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया।
एशिया के किसी देश में सबसे लंबे समय तक राज करने वाले मालदीव के राष्ट्रपति मैमून अब्दुल गयूम को एक पूर्व राजनैतिक बंदी मोहम्मद अन्नी नशीद ने अक्टूबर में हिंद महासागर के इस द्वीपीय राष्ट्र के ऐतिहासिक राष्ट्रपति चुनाव में पराजित करते हुए सत्ता से बाहर कर दिया। छह साल की अवधि में कई बार जेल जा चुके नशीद ने 71 साल के गयूम का 30 साल से चला आ रहा राज खत्म कर दिया।
अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनावों में पहली बार एक अश्वेत ने बाजी मार ली। डेमोक्रेट बराक ओबामा ने अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव जीतकर देश के इतिहास में नया अध्याय जोड़ दिया।

इसराइल को पहली अरब महिला प्रोफेसर नियुक्त करने में 60 साल से अधिक का समय लग गया। नवंबर माह में नियुक्त महिला प्रोफेसर हाउला अबु बकर ने लैंगिक मुद्दों, मानसिक स्वास्थ्य तथा यौन हिंसा पर शोध की योजना बनाई है।
6 दिसंबर को बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान मलेशिया के प्रतिष्ठित दातुक सम्मान से नवाजे जाने वाले पहले भारतीय अभिनेता बन गए।

भारत में दिसंबर में पाँच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने पहली बार दिल्ली में लगातार तीसरी जीत दर्ज की। मध्यप्रदेश तथा छत्तीसगढ़ में भाजपा ने पहली बार लगातार दूसरा कार्यकाल हासिल किया।
जाने-माने भारतीय मूल के उद्योगपति लार्ड स्वराज पॉल ब्रिटेन के हाउस ऑफ लार्ड्स के पहले एशियाई डिप्टी स्पीकर बने और दस दिसंबर की तारीख इतिहास में अमर हो गई।



और भी पढ़ें :